Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2019

कपूर के 4 लाभकारी प्रयोग

यदि आप आंखो में लगाने वाला काजल घर पर बनाती है।तो उसमें थोड़ा कपूर डाल दे। दांतो में कीड़ा लग जाने पर थोड़ा कपूर रात को सोते समय दांतो में रख कर सोएं। इससे कीड़े अंदर ही अंदर मर जाएंगे। यह प्रयोग पायरिया के लिए भी है। सुबह गुनगुने पानी से कुल्ला कर लेना चाहिए। घर पर कभी कपूर रखना हो तो काली मिर्च या लौंग के साथ एक बंद डिब्बी में रखने से उड़ता नहीं है। एक बोतल में आधा लीटर पानी डालें उसमे 10 ग्राम डल्ले वाला कपूर डाले और 2 दिन धूप में रखें। थोड़ा गल जाने पर  यूज करे।किसी को खट्टी डकार, जी मचलाना, पेट दर्द, पेट मरोड़ आदि हेतु इस पानी को 1-1 चम्मच पीने को दे, अवश्य लाभ होगा। शीशी में पानी खतम होने पर और पानी डालते जाएं जब तक कपूर पूरा नहीं गल जाएं।  आपने इस आर्टिकल को देखा इसके लिए आपका धन्यवाद करते है | इसमें दिए गए नुस्खो को प्रयोग कर परिणाम नीचे कमेंट में सूचित करने की कृपा करें | 😊😊

फिटकरी के 5 लाभकारी प्रयोग

इस आर्टिकल में मै आपको फिटकरी के 5 लाभकारी प्रयोग बताउंगी जो की बहुत लाभकारी है।
यदि पसीना अधिक आता हो तो पानी में फिटकरी डाल कर स्नान करें। सरसों के तेल में फिटकरी पीसकर मिला दें, फिर जहां जहां चीटियां हो वहां छिड़क दें, तुरन्त भाग जाएंगी। जामुन की लकड़ी का कोयला 1 तोला, फिटकरी भुनी हुई 1 तोला दोनों को बारीक़ पीसकर दांत पर लगाने से रक्त आना बंद  जाता है। भुनी फिटकरी को बारीक़ पिसले, आँखों की पलकों पर लगाने से पानी गिरना बंद होता है व लाली दूर हो जाती है। भुनी फिटकरी को बारीक़ पीस लें। एक शीशी में १०० ग्राम गुलाबजल लेकर 2 चुटकी फिटकरी दाल कर खूब हिलाएं। गल जाने पर कपड़े में छान कर रख लें। सोते समय 2 बून्द आँखो में डाले। यह आँखो के लिए बहुत लाभकारी है।  आपने इस आर्टिकल को देखा इसके लिए आपका धन्यवाद करते है | इसमें दिए गए नुस्खो को प्रयोग कर परिणाम नीचे कमेंट में सूचित करने की कृपा करें | 😊😊

बालों का झड़ना रोकने के 8 घरेलू उपाय

आज इस आर्टिकल में मै बालों का झड़ना रोकने के 8 घरेलू उपाय बताउंगी जो की बहुत ही लाभकारी है।आजकल बाल झड़ने की समस्या आम बात है। आजकल तो छोटे बच्चो के भी बाल बहुत झड़ते है। पॉल्यूशन, सही भोजन न खाना, बालो में  तेल न लगाना इत्यादि कारणों से बाल झड़ते है। ये उपाय इस प्रकार है।
आवंले का चूर्ण रात को भिगो दें। सुबह उसे मसलकर पानी निकाल ले। इस पानी में 1-2 नींबू निचोड़ लें। अब जिस तरह शैंपू करते है वैसे ही इस पानी से बालो को भिगोकर मसाज करें। 1 चम्मच साबुत काले तिल और 1 चम्मच भांगरे के पंचाग (फूल, फल, पत्ती, तना, जड़) को बारीक़ पीसकर पानी के साथ सेवन करें। कनेर की जड़ की छाल और लौकी 10-10 ग्राम लेकर उसे दूध में पीसकर सिर पर लेप करें। तुलसी पत्र स्वरस, भृंगराज पत्र स्वरस और आंवला बारीक़ पीसकर मिलालें। इसे बालों पर लगाए। इससे बालों का झड़ना बंद होने लगता है और बाल धीरे-धीरे काले होने लगते है। हरसिंगार के बीजो को पीसकर लेप तैयार करें। इसे नियमित रूप से सिर पर लगाएं। यह बालों के झड़ने और गंजेपन में लाभदायक है। यह प्रयोग 3-4 महीने तक करना चाहिए। नींबू के रस में बरगद की जटा पीसकर उससे बाल धोये और …

7 घरेलू उपाय माईग्रेन के दर्द से राहत पाने के लिए

आज मै इस आर्टिकल मे आपको 7 घरेलू उपाय माईग्रेन के दर्द से राहत पाने के लिए बताउंगी। जो की बहुत लाभकारी है। ये उपाय इस प्रकार है।
सूर्योदय से पहले नारियल व गुण के साथ छोटे चने के बराबर कपूर मिलाकर 3 दिन तक खाएं। माईग्रेन का दर्द चला जायेगा। गाय का ताजा घी सुबह शाम नाक में डालने से आराम मिलता है। बड़ी इलायची का छिलका बारीक़ पीसकर हल्का गर्म करके सिर पर लेप लगाने से आराम मिलता है। केसर को घी में पीसकर सूंघने से माईग्रेन का दर्द चला जाता है। दिन में दो बार दही चावल का सेवन करने से लाभ होता है। लौंग को गर्म करके पीसले और इसका लेप बनाकर सिर पर लगाये इससे सिर का दर्द मिटता है। दही चावल और मिश्री को मिलाकर सूर्योदय से पहले खाने से सूर्योदय के साथ घटने बढ़ने वाले दर्द में आराम मिलता है।        आपने इस आर्टिकल को देखा इसके लिए आपका धन्यवाद करते है | इसमें दिए गए नुस्खो को प्रयोग कर परिणाम नीचे कमेंट में सूचित करने की कृपा करें | 😊😊

कैसे करें नाखूनों की देखभाल

दोस्तों आज में इस आर्टिकल में आपको कैसे करें नाखूनों की देखभाल के बारे में बताउंगी। आप घर बैठे ही नाखूनों की देख रेख कर सकते है। चेहरे की सुंदरता के साथ-साथ नाखूनों का सुन्दर होना भी जरूरी है। नाखूनों को हफ्ते में 1 बार जरूर काटे। समय-समय पर क्लीनिंग करें और हो सके तो महीने में एक बार मैनिक्योर और पैडीक्योर कराए।
नाख़ूनो को गर्म पानी से अच्छी तरह साफ करके सूखा लें। और कोलगेट पेस्ट को जरा-जरा सा नाखूनों पर लगाएं। और 5 मिनट तक स्क्रब करें। फिर गुनगुन पानी से धो लें। इससे नाखूनों का पीलापन कम होगा। ये उपाय आपको हफ्ते में 1 बार करना है। नाख़ून अगर सख्त है तो एक कटोरी गुनगुन पानी में 5-6 मिनट डुबोकर रखें। इससे नाख़ून मुलायम होते है। काटने में भी आसानी होगी। नाखूनों के ऊपरी भाग को गोलाकर काटें ताकि वो जल्दी टूटे नहीं और मजबूत बनें। क्यूटिकल पुशर से नाखूनों के चारों तरफ की मृत त्वचा को धीरे०-धीरे पीछे सरकाते रहे। इससे नाखून बड़े व लम्बे दिखेंगे। हफ्ते में 1 बार सरसों के तेल की मालिश करें। रात को सोने से पहले जरूर नाखूनों की कोई भी मॉस्टराइजर क्रीम से मसाज करें। ये आप रोज भी कर सकते है। नाखूनों …

बालों को असमय सफेद होने से बचाने के 9 उपाय

दोस्तों आज में अपने इस आर्टिकल में बालों को असमय सफेद होने से बचाने के 9 उपाय बताउंगी। आजकल बालों का सफेद होना आम बात है। आजकल तो छोटे-छोटे बच्चों के बाल सफेद हो रहें है। कई कारणों की वजह से बाल सफेद होते है जैसे ज्यादा टेंशन लेना, सही पोषण न मिलना, पॉलुशन इत्यादि। तो आइए जानते है की हम बालों को असमय सफेद होने से कैसे बचाएं।  आंवलों को नीम और मेहंदी के पत्तों के साथ दूध में पीसकर रात को बालों में लेप करें। सुबह धो लें। यह प्रयोग हफ्ते में 2 बार करें। लौह चूर्ण, हरड़, बहेड़ा, आंवला और काली मिट्ठी को पीसकर चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को गन्ने के रस में 1 महीने तक भिगोकर रखें। 1 महीने बाद इस लेप को लगाएं। रात को लगाकर सुबह बाल धोएं। यह प्रयोग हफ्ते में 2  बार करें। आंवलों का चूर्ण रात भर पानी में भिगो दे। सुबह उसे मसलकर छान लें और उस पानी से सिर धोएं। बाल काले और मुलायम होंगे। यह प्रयोग हफ्ते में 1 बार करें। सोते समय पैर के तलुवों में घी लगाकर मालिश करें। ऐसा करने से बालों का सफेद होना रुक जाता है। यह प्रयोग हफ्ते में 3 बार कर सकते है। आंवले के चूर्ण को पानी में घोलकर नींबू का रस निचोड़ लें। …

बेड़ा पूड़ी बनाने की विधि

बेड़ा पूड़ी बनाने की सामग्री 250 ग्राम धुली मूंग की दाल 250 ग्राम मैदा अजवायन स्वादअनुसार लाल मिर्च स्वादअनुसार नमक स्वादअनुसार जीरा स्वादअनुसार हरी मिर्च हरा धनियातेल तलने के लिए    बेड़ा पूड़ी बनाने की विधि  रात को दाल गला कर सुबह महीन पीस लें। पीसी हुई दाल में अजवायन छोड़ कर सारे मसाले मिला लें। एक बर्तन में मैदा लें और चुटकी भर नमक जरा सी अजवायन व मोयन मिला कर गूंध लें। मैदे की छोटी-छोटी लोई तोड़कर पतली पपड़ी की तरह बेले और बीच में एक छोटी चम्मच भर दाल की पीठी रख कर फैला दें। अब पपड़ी को चारों तरफ से आधा इंच के लगभग मोड़कर चौकोर शक्ल की पूड़ी बना लें। कड़ाही में तेल गरम कर इस पूड़ी को इस तरह से तलने के लिए कड़ाही में डालें कि दाल वाला भाग ऊपर रहे। थोड़ी सिक जाने के बाद इसे पलट कर अच्छी तरह सेंक लें। पहले पूड़ी को दाल का भाग नीचे करके उलटी न डालें वरना दाल कड़ाही में फैल जाएगी। सिक जाने पर गरम-गरम बेडा पूड़ी चटनी या सॉस के साथ परोसें। ये बहुत जायकेदार व्यंजन है।  आपने मेरे इस आर्टिकल को पड़ा इसके लिए में आपका हार्दिक धन्यवाद करती हूँ। इसमें दिए गए व्यंजन की विधि को घर पर जरूर बना कर देखें और …

त्वचा की देखभाल कैसे करें

दोस्तों आज में अपने इस आर्टिकल में त्वचा की देखभाल कैसे करें के बारे में चर्चा करुंगी। चमकीली और सुन्दर त्वचा का सौंदर्य में सर्वोपरि स्थान है और इस तरह की त्वचा साधारण लड़की को भी आकर्षक व सुन्दर बना देती है। खूबसूरत त्वचा न केवल आपके सुन्दर होने का प्रमाण है बल्कि यह आपके स्वास्थ्य के बबारे में भी खबर देती है इसलिए कई चिकित्सक तो त्वचा की दशा से ही शरीर की रोगावस्था का अनुमान लगा लेते है।

त्वचा में कई रोमकूप होते है जिनके जरिये पसीना निकलता है और प्रकृति शरीर की सफाई करती रहती है अतः यह बहुत जरूरी है कि हमारे रोमकूप बराबर साफ रहे, अन्यथा मुंहासे या अन्य त्वचा संबधी रोग उतपन्न होने लगेंगे। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए यदि आप कभी-कभी भापस्नान (स्टीमबाथ)ले सकें तो बड़ा अच्छा रहेगा पसीना निकालने के उद्देश्य से यदि आप सुबह की सुहाती धूप में 1 घंटा बैठ सकें तो आपकी त्वचा के लिए बहुत लाभकारी होगा क्योंकि सूर्य की किरणों में विटामिन 'D' होता है।

बहुत सी महिलाएं अत्यधिक कोस्मेटिक प्रसाधनों का प्रयोग करती है, जो कि त्वचा के लिए हानिकारक है। यही नहीं अधिकांश महिलाएं रात में बिना मेकअ…

Apple Service Center in RDC Raj Nagar Ghaziabad (QDIGI Services Limited)

दोस्तों गाज़ियाबाद में रहने वाले Apple iPhone users के लिए खुश खबरि है कि Apple service center RDC, Raj Nagar, Ghaziabad में खुल गया है।

मुझे तब पता चला जब में locate.apple.com पे आनंद विहार का एप्पल के सर्विस सेंटर में अप्पोइंटमेण्ट फिक्स करने के लिए सर्च कर रही थी। तो जब मैंने देखा की सर्विस सेण्टर मेरे नियर ही गाज़ियाबाद में है तो मुझे ये कनविनिएंट लगा।

नीचे है Apple सर्विस सेण्टर का नाम और पता।
QDIGI SERVICES LIMITED C-6, GF, RDC, RAJ NAGAR,, GHAZIABAD 201002
Phone: +91 9319177575

अमरुद की जेली बनाने की विधि

दोस्तों आज में इस आर्टिकल में अमरुद की जेली बनाने की विधि शेयर कर रही हूँ। जो की आप घर पर आसानी से बना सकते ये बनाने में बहुत आसान है और खाने में भी स्वादिष्ट होती है। तो लीजिए अमरुद की रेसिपी बनाने की विधि इस प्रकार है।
अमरुद की जेली बनाने की सामग्री  
1 किलो अमरुद 250 ग्राम चीनी 3 टी स्पून नींबू का रस  अमरुद की जेली बनाने की विधि एक पतीले में गोल आकार में पतले कटे हुए अमरुद डाले।अब इसमें अमरुद के बराबर तक पानी डाले और तेज आंच पर 45 मिनट तक कुक करे। अब अमरुद के पानी को स्टेनर की सहायता से छान लें। अब अमरुद के पानी में चीनी डाल दे और आंच पर रखे और इस पानी को चीनी के घुलने  तक लगातार चलाते रहे। चीनी घुलने के बाद तेज आंच पर कुक होने के लिए छोड़ दे और बीच-बीच में चलाते रहे। जब पानी उबलने लगे तब इसमें नींबू का रस डालेऔर तेज आंच पर जेली को गाड़ा होने दे। जब जेली गाड़ी हो जाए तब एक कटोरी में पानी लें और उसमें जेली की कुछ बूंद डाले अगर जेली जमने लगे तो जेली तैयार है। जेली को ठंडा होने दे फिर इसको कांच की बोतल में डाल दे।इसे आप ब्रेड में लगाकर बच्चो को दे सकते है या रोटी पर लगाकर भी बच्चो को बहु…

दांत दर्द में घरेलू उपचार

दोस्तों आज में इस आर्टिकल में दांत दर्द में घरेलू उपचार के बारे में बताउंगी। दांतो की प्रतिदिन भली प्रकार सफाई और पर्याप्त मात्रा में कुल्ले न करने से दांत खराब, गंदे, कमज़ोर और पीड़ा के कारण होते है। साथ ही मसूड़े भी खराब हो जाते है। जिससे मुँह से बहुत बुरी दुर्गन्ध आती है और पायरिया जैसा भयंकर रोग हो जाता है। गन्दा और रोग ग्रस्त मुख सारे शरीर को रोगी बना देता है क्योंकि हम जो कुछ भी खाते पीते है व दूषित होकर ही उदर में पहुँचता है। इसलिए दांतो की सफाई और सुरक्षा करने में जरा भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। दोस्तों इसलिए में अपने इस आर्टिकल में कुछ सरल और लाभकारी उपाय प्रस्तुत कर रही हूँ।
दांत दर्द में घरेलू उपचार लौंग और लौंग का तेल सबसे पुराना और असरदार घरेलू इलाज है। लौंग का तेल एक बून्द रुई में लेकर जिस दांत में दर्द हो रहा हो उस जगह लगाकर छोड़ दे तुरन्त आराम मिल जाएगा। अगर लॉन्ग का तेल न हो तो आप 1-2 लौंग मुँह में रखकर चबाए या जिस दांत में दर्द है उस जगह लौंग रखकर चबाने से तुरंत आराम मिलता है। क्योकि लौंग एंटी बैक्टीरियल होता है।  लहसुन भी बहुत लाभकारी नुस्खा है दांत दर्द में। क्योकि…

ईसबगोल का परिचय गुण और प्रयोग

दोस्तों आज में इस आर्टिकल में आपसे ईसबगोल का परिचय गुण और प्रयोग के बारे में बताऊंगी जो की बहुत लाभकारी है। अक्सर कब्ज़ होने पर खाये जाने वाले इसबगोल के बारे में आप सब जानते होंगे। पर क्या आप इसके परिचय, गुण और प्रयोग के बारे में जानते है। अगर नहीं जानते तो उम्मीद है की इस आर्टिकल में दी गयी जानकारी आपके लिए लाभकारी होगी। इसबगोल का परिचय, गुण और प्रयोग इस प्रकार है।
ईसबगोल का परिचय  यह अशवगोल कुल (प्लांटाजिनेसी) की वनस्पति है। इसके बीजों की भूसी अलग करके औषधि के रूप में प्रयोग की जाती है। जो बाजार में सत ईसबगोल के नाम से पैकेटों में पैक मिलती है। इसका उल्लेख प्राचीनआयुर्वेदिक ग्रंथो में नहीं मिलता। इसका मूल उतपत्ति स्थान फारस है इसलिए यूनानी ग्रंथो में इसका विस्तृत विवरण मिलता है। भारत में यह पंजाब और उत्तर प्रदेश के कुछ भागों में और विशेष कर गुजरात प्रान्त में पैदा होती है आधुनिक खोज के अनुसार यह शीतल व शान्ति दायक है और अतिसार रक्तातिसार, पेचिश, अजीर्ण, मलावरोध, ज्वर और दमा रोग में बहुत गुणकारी है।
ईसबगोल के गुण  ईसबगोल सनिग्ध, भारी, पिच्छिल, मधुर, ग्राही, शीतल वात कारक और पित्त …

अदरक के गुण और उपयोग

दोस्तों आज में अपने इस आर्टिकल में अदरक के गुण और उपयोग के बारे में बताऊंगी। दोस्तों हमारी रसोई में जो भी खाद्य पदार्थ है वे सभी किसी न किसी रोग में उपयोगी सिद्ध होते है बशर्ते हमें उनके गुण लाभ औरउपयोग के विषय में जानकारी हो। अदरक से सभी परिचित है। शीतकाल में शाक सब्ज़ी के मसलों में अदरक का हल्की सी मात्रा में उपयोग होता है। चाय में अदरक डाली जाती है। और चटनी बनाते समय भी अदरक का प्रयोग किया जाता है। इसलिए मैने सोचा क्यों न आपके साथ आज में अदरक की उपयोगिता और गुण शेयर करू जो की हम अपनी रसोई में रोज इस्तमाल करते है उम्मीद करती हूँ की ये आर्टिकल आपको पसन्द आए।
अदरक के गुण अदरक मल भेदक, भारी, तिष्ण, गरम, चरपरा पाक में मधुर तथा वात व कफ को नष्ट करता है। सोंठ के गुण अदरक में भी होते है। भोजन से पहले नमक के साथ अदरक खाने से रूचि, भूख, जठरागिन और पाचन शक्ति बढ़ती है, जीभ और कंठ का शोधन होता है। जिन्हें कुष्ठ पाण्डु, कुच्छर, रक्तपित्त, घाव, ज्वर दाह रोग से ग्रस्त रोगी को तथा ग्रीष्म और शहद ऋतु में अदरक का सेवन वर्जित है।
अदरक के उपयोग  रसोई सम्बन्धी उपयोग के अलावा अदरक को औषधिय ढंग से भी …

Computer Keyboard Shortcuts Meaning

दोस्तों आज में आपसे कंप्यूटर कीबोर्ड शॉर्टकट मीनिंग शेयर कर रही हूँ। उम्मीद है की ये जानकारी आपको  पसन्द आएगी । ये संक्षिप्त शब्दों को हम ज्यादातर अपने कंप्यूटर पर  अक्सर इस्तमाल करते है। इसकी शोर्ट फॉर्म तो अक्सर हम सब लोगों को पता होती है पर ज्यादातर इसकीफुल फॉर्म हमें पता नहीं होती। तो आइये जानते है कुछ संक्षिप्त शब्दों की फुल फॉर्म जो की इस प्रकार है।   1 Ctrl + V  पेस्ट दा सलेक्टेड आईटम 2 Ctrl + C कॉपी दा सलेक्टेड आईटम 3 Ctrl + Z अनडू एन एक्शन 4 Ctrl + X कट दा सलेक्टेड आइटम 5 Alt + Tab स्विच बिटवीन ओपन ऐप्स 6 Alt + F4 क्लोज दा एक्टिव आईटम,और एग्जिट दा एक्टिव ऐप्स 7 Alt + F8 शो योर पासवर्ड ऑन 8 Ctrl + A सलेक्ट ऑल आईटम इन अ डॉक्यूमेंट और विन्डो 9 Ctrl + F4 क्लोज दा एक्टिव डॉक्यूमेंट 10 Ctrl + D डिलीट दा सलेक्टेड आईटम एंड मूव इट टू दा रिसाईकल बिन  आपने इस आर्टिकल को पढ़ा इसके लिए आपका धन्यवाद करते है | कृपया अपनी राये नीचे कमेंट सेक्शन में सूचित करने की कृपा करें | 😊😊

व्रत में बनाए फलहारी बूंदी (नुक्ती)

दोस्तों आज में आपको अपने इस आर्टिकल में व्रत में बनाए फलाहारी बूंदी (नुक्ती) बनाने की रेसिपी शेयर करुंगी। आपने बेसन की बूंदी तो अक्सर खाई और बनाई होगी। पर क्या कभी फलाहारी बूंदी का भी जायका चखा है? यदि नहीं तो अब बनाइए और देखिए कितनी स्वादिष्ट लगती है। इस व्यंजन को आप व्रत में खा सकते है। तो आइए इसे बनाने की सामग्री और विधि इस प्रकार है।
व्रत में फलहारी बूंदी (नुक्ती)बनाने की सामग्री 50 ग्राम सिंघाड़े का आटा 50 ग्राम अरबी 100 ग्राम अरारोट 12 5 ग्राम शक्कर घी तलने के लिए व्रत में फलहारी बूंदी (नुक्ती) बनाने की विधि सबसे पहले एक बर्तन में अरबी को उबाल लें। अब अरबी को छीलकर उसमें सिंघाड़े का आटा मिलाले और अरारोट मिलाकर मसल लें व खूब फेटे। अब अलग बर्तन में चीनी की तीन तार की चाशनी बनाकर रख लें। अब कढ़ाही में घी गर्म करके बूंदी निकाल लें। इसको आप टिक्की का आकार भी दे सकते है। अब चीनी की चाशनी में इस बूंदी को डाल दे ध्यान रखें की चाशनी गर्म न हो। लीजिये तैयार है गरमा गर्म बूंदी (नुक्ती) .यह एक मीठा और स्वादिष्ट व्यंजन है।  आपने मेरे इस आर्टिकल को पड़ा इसके लिए में आपका हार्दिक धन्यवाद क…

व्रत में साबूदाने के दहीबड़े

दोस्तों आज में इस आर्टिकल में आपके साथ व्रत में साबूदाने के दहीबड़े की रेसिपी शेयर करुंगी। जो की बनाने में आसान है और जल्दी भी बन जाती है। साबूदाने की खिचड़ी या और भी इससे बने व्यंजन आपने खाए और बनाए होंगे। इस व्यंजन को आप व्रत में भी खा सकते हो। साबूदाना हल्का होने के कारण पचाने में भी आसान होता है। साबूदाने के दहीबड़े बनाने की विधि इस प्रकार है।
व्रत में साबूदाने के दहीबड़े बनाने की सामग्री 100 ग्राम साबूदाना 100 ग्राम मूंगफली के दाने 100 ग्राम आलू 300 ग्राम दही  काली मिर्च, हरी मिर्च, सेन्धा नमक अन्दाज से। तेल तलने के लिए हरा धनिया व्रत में साबूदाने के दहीबड़े बनाने की सामग्री एक बर्तन में साबूदाना गला दे। एक कढ़ाही में मूंगफली के दाने भून लें।कुकर में आलू उबाल कर छील लें।  अब एक बर्तन में इन तीनों चीजों को मसाला डालकर पीस लें और मिश्रण तैयार करें। अब इस मिश्रण के गोल बड़े बनाकर तेल में तल लें और टिशू पेपर पर रखें। अब एक बर्तन में दही और नमक डालकर अच्छी तरह फेट लें और इस फेटे हुए दही में ठंडे साबूदाने के बडे डाल दे.( अगर बड़े हार्ड हो तो थोड़े गुनगुन पानी में 5 मिनट डाल दे और …

व्रत में बनाए फलाहारी पकौड़े

दोस्तों आज में अपने इस आर्टिकल में व्रत में बनाए फलाहारी पकौड़े की रेसिपी शेयर कर रही हूँ। जो की आप नवरात्र में भी खा सकते हो। आजकल तो वैसे भी नवरात्र चल रहे है। हम अक्सक सोचते है कि क्या बनाए क्या न बनाए। ये खाने में भी बहुत स्वादिष्ट होते है। इसको आप सुबह के नाश्ते में या रात के भोजन में लें सकते है। तो लीजिए इस फलाहारी पकौड़े की विधि इस प्रकार है।
व्रत में बनाए फलाहारी पकौड़े की सामग्री  50 ग्राम सिघाड़े का आटा 100 ग्राम आलू सेंधा नमक स्वादनुसार काली मिर्च स्वादनुसार  तलने के लिए घी  व्रत में बनाए फलाहारी पकौड़े की विधि सबसे पहले कुकर में आलू उबाल लें। फिर एक बर्तन में उबले हुए आलू छील कर पीस लें। अब पीसे हुए आलू में सिघाड़े का आटा, कालीमिर्च और नमक मिलाकर खूब फेट लें अगर जरूरत पड़े तो आवश्यकता अनुसार पानी भी मिला सकते है। ये ऑप्शनल है। अब एक कढ़ाही में घी गर्म करें और पकौड़ो की तरह तल लें। एक टिशू पेपर पर तले हुए पकौड़ो को निकाल लें और गरमा गर्म पकौड़ो को चाय या धनिया की चटनी के साथ सर्व करें। ये भी देखें : नानखटाई बनाने  विधि  आपने मेरे इस आर्टिकल को पड़ा इसके लिए में आपका ह…

व्रत में बनाए फलाहारी मालपुआ

दोस्तों आज में अपने इस आर्टिकल में व्रत में बनाए फलाहारी मालपुआ की रेसिपी शेयर कर रही हूँ जो की बहुत ही आसान है। व्रत उपवास के समय अक्सर स्वादिष्ट और मजेदार व्यंजनों के बारे में सोचना पड़ता है। यह रेसिपी एक स्वीट डिश है जो की खोए से बनती है। इस फलाहारी मालपुआ की विधि इस प्रकार है।
 फलाहारी मालपुआ बनाने की सामग्री 150 ग्राम खोआ (मावा)25 ग्राम अरारोट 100 ग्राम चीनी 2-4 छोटी इलायची पीसी हुई। मिल्क आवश्कता अनुसार।घी तलने के लिए। फलाहारी मालपुआ बनाने की विधि 1 खोए को मसलकर बारीक़ करें।  2 फिर इसमें अरारोट और थोड़ा दूध मिलालें ।  3 अब इसमें पीसी हुई इलायची मिलालें।  4 अब एक कढ़ाही में घी डालकर गैस पर गर्म करें।  5 अब करछी की सहायता से इस मिश्रण को पूड़ी की शक्ल में फैला कर कढ़ाही में डालें और उल्ट पलट कर सेक कर निकाल लें।  6 अब शक़्कर की चाशनी 2 तार की बनाकर अलग रख लें।  7 इस चासनी में पूड़ियों को डाल दे।  8 15 से 20 मिनट तक चासनी में इन पूड़ियों को तर होने दे।  9 ये लीजिये गरमा गर्म फलाहारी मालपुआ तैयार है।

आपने इस आर्टिकल को पढ़ा इसके लिए आपका धन्यवाद करते है | कृपया अपनी राये नीचे क…

स्वास्थ्य के लिए व्यायाम का महत्व

दोस्तों आजकल की भागदौड़ में हम अपने स्वास्थ्य के लिए व्यायाम का महत्व भूल गए है। अच्छा स्वास्थ्य महावरदान होता है। अच्छे स्वास्थ्य से ही अनेक प्रकार की सुख सुविधाएं प्राप्त की जा सकती है। परन्तु आजकल मनुष्य अनेक प्रकार की बीमारियों का शिकार बन रहा है। आपने तो सुना ही होगा कितने लोग दिन प्रतिदिन खतरनाक बीमारियों के शिकार बन रहे है। इन बीमारियों से बचने के उपाय यह है कि प्रतिदिन व्यायाम करना चाहिए, स्वस्थ भोजन खाना चाहिए और वातावरण को साफ सुथरा रखना चाहिए। व्यायाम इनमे से सबसे मुख्य उपाय है। व्यायाम करने से हमारा शरीर चुस्त और फुर्तीला बनता है। व्यायाम अनेक प्रकार के होते है। जैसे प्रातः भृमण, दौड़ना, खेल कूद, योगासन, तैराकी आदि प्रमुख व्यायाम है।
(1) प्रातः भृमण व्यायाम का महत्व  प्रातः भृमण व्यायाम शरीर के लिए बहुत उपयोगी है। अगर हम प्रातः काल सूरज निकलने से पहले टहलने जाए क्योकि इस समय का वातावरण शुद्ध होता है।सुबह जल्दी उठना कितना लाभकारी है ये तो हम सब जानते है। जल्दी उठने से हमारे काम भी जल्दी खत्म हो जाते और और जो बच्चे पढ़ाई करने वाले है वे भी अगर जल्दी उठकर पढ़ते है तो उन्हे…

Full Forms of Some Important Abbreviations

दोस्तों आज में आपसे कुछ जरूरी संक्षिप्त शब्दों की FULL FORM शेयर कर रही हूँ। उम्मीद है ये आपको HELP FULL लगेंगी और पसन्द आएगी। ये संक्षिप्त शब्दों को हम ज्यादातर अपने कार्यो में अक्सर इस्तमाल करते है। इसकी SHOT FORM तो अक्सर हम सब लोगों को पता होती है पर ज्यादातर इसकी FULL FORM हमें पता नहीं होती। तो आइये जानते है कुछ संक्षिप्त शब्दों की FULL FORM जो की इस प्रकार है।  (1) IFSC Indian Financial System Code (2) RTO Regional Transport Office (3) ATM Automated Teller Machine (4) VAT Value-Added Tax (5) PIN Personal Identification Number (6) NOC  Non Objection Certificate (7) PAN Permanent Account Number  (8) ISI Indian Standard Institute (9) POA Power of Attorney (10) PSU Public Sector Units (11) RTI Right To Information (12) PSK Passport seva Kendra (13) UIDAI  Unique Identification Authority Of Indian (14) GPS Global Positioning System (15) CCTV Closed Circuit Television (16) PNG Portalbe Network Graphics (17) DVD Digital Video Disk (18) IP Internet Protocol (19) HDMI High-Definition…

जीवन में परिश्रम और अच्छी आदतें ही सफलता की कुंजी है।

दोस्तों जीवन में परिश्रम और अच्छी आदतें ही सफलता की कुंजी है।दोस्तों आज के समय हर व्यक्ति उन्नत्ति करना चाहता है। ये कोई बुरी बात नहीं है। सफलता सब को प्रिय होती है।जब व्यक्ति परिश्रम करता है तब उसे सफलता मिलती है.एवं वो अपने जीवन में आगे बढ़ता है।जो लोग आलसी होते है वे सदैव अपना आज का काम कल पर छोड़ देते है और कल कभी नहीं आता।ऐसे लोग सपने तो देखते है पर सपनों को सच करने के लिए प्रयास कभी नहीं करते। ऐसे लोग अपनी सफलता या असफलता को केवल भाग्य से जोड़ देते है।
 परिश्रम सफलता की कुंजी है। सफलता प्रतेक व्यक्ति को अच्छी लगती है।परन्तु सफलता केवल उन लोगों को मिलती है जो उसे पाने के लिए मेहनत करते है एवं भाग्य का सहारा नहीं लेते है।चींटी देखने में इतनी छोटी होती है पर मेहनत करने में कभी पीछे नहीं रहती है।

चिड़िया मेहनत करके सुन्दर सा घोंसला अपने लिए बनाती है।तब क्या हम लोग मेहनत करके आगे क्यों नहीं बढ़ सकते।हमें हमारी टीचर स्कूल में अच्छे से पढ़ाती है एवं सब बच्चों को एक सा पढ़ाती है पर सारे बच्चे पढ़ाई में अच्छे नहीं होते क्योंकि जो मेहनत करेगा वो बच्चा पढ़ने में अच्छा होगा।

इसलिए हम सभ…

मखाने की खीर

दोस्तों आज में अपने इस आर्टिकल में आपको मखाने की खीर बनाने की विधि बताऊगी जो की बहुत स्वादिष्ट और पौष्टिक होती है। आजकल तो वैसे भी नवरात्रि का समय चल रहा है इस समय तो जी भी 9 दिन तक व्रत रखते है वो व्रत वाला भोजन ही खाते है। मखाने बहुत सारे पोषक तत्वों से भरपूर होते है और थकावट को मिटाकर शरीर को ऊर्जा देते है यह शरीर को स्वस्थ व निरोग बनाने में भी लाभकारी है। मखाने में कैलोरी की मात्रा कम होने की वजह से वजन घटाने में भी लाभकारी होता है। मखाने की खीर बनाने की विधि इस प्रकार है
मखाने की खीर बनाने की सामग्री  1 कप मखाना  1 टीस्पून घी  4 कप दूध  1 टेबल स्पून चीनी  1/2 टी स्पून इलायची पाउडर  1 टी स्पून पिस्ता, बारीक़ लम्बे टुकड़ो में कटा हुआ।  थोड़ा सा केसर  मखाने की खीर बनाने की विधि एक बर्तन में घी गर्म कर लें और उसमें मखाने डाल कर भुने। फिर भुने हुए मखाने को मिक्सी में दरदरा पीस लें और बाउल में डालकर अलग रख दें। अब दूसरे बर्तन में दूध उबाले और इसमें मखाने मिलाए और धीमी आंच पर पकने दे बीच बीच में इसे चलाते रहे। जब मिश्रण थोड़ा गाढ़ा होने लगे तो इसमें केसर और इलायची पाउडर डालें इसके बा…

लहसुन के घरेलू उपाय

दोस्तों आज में अपने इस आर्टिकल में आपको लहसुन के घरेलू उपाय और फ़ायदे बताने जा रही हूँ। लहसुन एक ऐसी सामग्री है जो की सब्जियों का स्वाद बड़ा देती है और सेहत के लिए भी फायदेमंद होती है। लहसुन में ऐसे गुणकरी तत्व होते है।  जो की हमे बीमारियों से दूर रखने में सहायक होते है। लहसुन को आयुर्वेद में औषधि की तरह माना जाता है लहसुन डाइजेशन के लिए भी अच्छा होता है। लहसुन में एलीकीन नामक तत्व होता है जो की जीवाणुरोधी, एंटीवायरल, एंटीफंगल होता है।
(1) कोलेस्ट्रॉल   लहसुन का प्रयोग करने से कोलेस्ट्रॉल कम हो जाता है अतः यह ह्रदय रोग के आक्रमण को रोकने में बहुत सक्षम है। लहसुन की 4-5 कलियां सेवन करते रहने से धमनियों में जमा हुआ कोलेस्ट्रोल निकल जाता है, सिकुड़ी व सख्त हो रही धमनियां ठीक व लचीली हो जाती है और रक्तचाप सामान्य गति पर आ जाता है। ह्रदय रोग के रोगी को तो नियमित रूप से इसकी कलियों का प्रयोग करते ही रहना चाहिए। (2) गठिया  एक लहसुन की कलियां छीलकर 50 ग्राम तेल में डालकर उबालें। लहसुन की कलियां जल जाएं तब उतार लें। इस तेल से रोजाना गठिया ग्रस्त अंगो पर मालिश करनी चाहिए। लहसुन की 4-5 कली रोज चब…

JBL Flip 2 Portable Bluetooth Speaker Review

दोस्तों आज में आपको JBL Flip 2 Portable Bluetooth Speaker का Review देने जा रही हूँ। इस speaker को में 2 साल से खुद यूज कर रही हूँ। इसे मैने Online Flipkart साईड से मंगाया था। इसकी सॉउन्ड बहुत ही sharp और clean है full वॉल्यूम करने पर भी आवाज क्लियर आती है। जब मैने मंगाया था तब इसकी कीमत 3,799 थी। पर आज इसकी कीमत 3200 के लगभग है। अभी तक तो ये ठीक ही चल रहा था पर इसकी charging cable खराब हो जाने की वजह से अब इसको charge करने में प्रॉब्लम आरही है। ये mobile की charging cable से भी charge हो जाता है पर उससे charge नहीं करना चाहिए क्योंकि अगर आप speaker को mobile charger से charge करोगे तो स्पीकर की charging pin खराब हो जाएगी और chrging होने में प्रॉब्लम आएगी। ये में अपने एक्सपीरयंस से कह रही हूँ। बाकी परफॉर्मेंस बहुत ही बढ़िया है इसका bluetooth बहुत ही बढ़िया काम करता है इसे में अपने 49 इन्च की LED के साथ कनेक्ट करके चलाती हूँ  ये काफी दुरी होने पर भी कनेक्ट हो जाता है और किसी भी फ़ोन से कनेक्ट हो जाता है और य USB cable से भी कनेक्ट हो जाता है।
Description and Features Brand----------…

iBall Nirantar UPS-621V Review

दोस्तों आज में आपको इस आर्टिकल में iBall UPS-621V का review देने जा रही हूँ जो की मै खुद यूज कर रही हूँ।इसे मैने 2 साल पहले online Snapdeal साइड से मंगाया था। इसे मैने अपने wifi router के लिए मंगाया था। 6 month के बाद ups बंद हो गया था क्योकि इसके अन्दर का part खराब हो गया था। iball की service center कॉल लगाया और तुरन्त दूसरे दिन ही उन्होने यूपीएस का part बदल दिया और तबसे आज तक यूपीएस में कोई प्रोब्लम नहीं आई। मैने एक और  iBall का UPS अपने टीवी के लिए भी मंगाया। इसे मैने Amazon से मंगाया था इसे भी 1 साल हो गए अभी तक कोई प्रॉब्लम नहीं आयी। iball की सर्विस बहुत ही बढ़िया है जब मैने मंगाया था तब ये Rs 1599 का था पर आज इसकी कीमत  Rs 2200 के लगभग हो गई है। इसका बैटरी बैकअप भी लगभग 20 से 40 मिनट तक का है डिपेन्ड करता है की कितनी डिवाइसेस आपने ups में लगाई है उसके लोड पर डिपेंड  करता है। अगर आप कोई यूपीएस लेने की सोच रहे है तो ये एक अच्छा और worth for money product है।
Product Specification Brand ---------------------- -------------iBall Manufacturer--------------------------- iBall  Se…

पति पत्नी दो गहरे मित्र

दोस्तों इस आर्टिकल में मै आपसे पति पत्नी दो गहरे मित्र के बारे में चर्चा करुँगी। जो की पति पत्नी के सम्बन्धों के विभिन्न रूप हो सकते है और उनमे से एक है मित्रता का, घनिष्ट, अटूट और आत्मीय मित्रता का, जो जीवन पर्यन्त कायम रहती है या कहिए की रहनी चाहिए। यूं पति का शाब्दिक अर्थ 'स्वामी' या 'संरछक' होता हैऔर पत्नी हिस्सेदार अर्थात लाइफ पार्टनर यानि अर्धागिनी। इस प्रकार यह सम्बन्ध संसार के सभी प्रकार के सम्बन्धों में विलक्षण एवं विशिष्ट है। जो दम्पत्ति इन सम्बन्धों को निभा लें जाते है उनका जीवन सुख और समृद्धि से पूर्ण रहता है।
 गाड़ी के दो पहिए  एक गाड़ी के दो पहिऐ या रेल की दो पटरियों जैसे दाम्पत्य जीवन के दो अंग है पति पत्नी, जो यदि तन मन से मिल जुल कर रहें तो दो गहरे मित्र की तरह वैसे ही एक रूप हो जाते है। जैसे दो नदियों का संगम हो जाने पर उन दोनों नदियों का जल एकाकार हो जाता है वरना विपरीत स्थिति में दाम्पत्य रस रूपी जल सुख जाने से नदी के दो किनारों की तरह वे आमने सामने और सदा साथ रहते हुए भी हमेशा अलग और न मिल सकने वाले होकर रह जाते है। दाम्पत्य जीवन के विशाल वृक्ष…

माइक्रोवेव में 5 तरह के व्यंजन बनाने की विधि

दोस्तों आज मै इस आर्टिकल में माइक्रोवेव में 5 तरह के व्यंजन बनाने की विधि बताउंगी।मै आपको माइक्रोवेव में बनी हैल्दी ग्रीन इडली, दलिया उपमा, जो की बहुत पौष्टिक होती है और बच्चे भी बहुत शौंक से खाते है। आप इसे सुबह के नाश्ते में या शाम के सनेक्स में बना सकते हो। ज्यादातर इडली और दलिया उपमा सभी को पसन्द होता  है। ये खाने में भी हल्का होता है। और माइक्रोवेव में आप अरेबिक पनिनी, पनीर शिमला मिर्च, लो फैट चिकन टिक्का भी बना सकते हो इन सभी व्यंजनों को बनाने की सामग्री और विधियां इस प्रकार है।
(1) हैल्दी ग्रीन इडली बनाने की सामग्री 1 कप सूजी (रवा)1 बड़ा चम्मच ऑलिव ऑयल 1 कप दही 1/2 कप पीसी पालक 1/2 छोटा चम्मच मीठा सोडा 3/4 छोटा चम्मच नमक हैल्दी ग्रीन इडली बनाने की विधि   1 बड़ा चम्मच ऑलिव ऑयल डिश में डालें।1 मिनट के लिए माइक्रोवेव करें।फिर सूजी डालकर अच्छे से मिलाए। बिना ढके 2 मिनट के लिए माइक्रोवेव करें। नमक डालें। अच्छे से मिलायें। ठण्डा करें। दही और पालक की पेस्ट डालकर अच्छे से मिलायें। मीठा सोडा डालें और अच्छे से मिलायें। 1/4 कप पानी मिलाकर घोल को कुछ पतला कर लें।10 मिनट के लिए अलग रखें।…

जीवन में सहनशीलता और धैर्य

दोस्तों आज मै अपने इस आर्टिकल में जीवन में सहनशीलता और धैर्य के विषय में बता रही हूँ जो की आज के युग में जिन माननीय गुणों की प्रायः हममें कमी होती जा रही है उनमें से एक है सहनशीलता और दूसरा है धैर्य   बहुत कम लोग वाकई सहनशील  होते है। कुछ तो अपने भड़कने और उत्तेजित हो उठने के स्वभाव से विवश होने के कारण नाम मात्र भी सहनशील नहीं होते। ऐसे लोग बड़े शेखीबाज और घमण्डी होते है। ये सब अवगुण हीन भावना (इन्फीरियरिटी काम्प्लेक्स) के कारण से ही होते है।
सहनशीलता  कुछ लोग वास्तव में तो सहनशील नहीं होते पर एटिकेट, मैनर्स याने शिष्टाचार के नाम पर सहनशील होने का अभिनय किया करते है। उनकी मुस्कराहट नकली और नम्रता बनावटी होती है। वे यांत्रिक ढंग से शराफत का ऊपरी दिखावा करते है। जो पति पत्नी घर में तूतू मै मै किया करते है वे बाहर मुस्कराते हुए और बन ठन कर निकलते है ताकि दुसरो को प्रसन्न और खुशहाल दिखाई दें।

लेकिन इससे तब तक कुछ हासिल नहीं होता जब तक आप अन्दर से सहनशील नहीं होते। अन्दर यदि सहनशीलता का भाव नहीं हुआ तो बाहर का अभिनय ज्यादा देर तक टिक नहीं सकेगा। जरा खरोंच लगते ही जैसे शरीर की त्वचा से …

वायुमंडल में घुलता जहर (पॉल्यूशन) होने के कारण और बचाव के 9 उपाय

दोस्तों जैसे हमारे शरीर को स्वस्थ और निरोग रखने के लिए उचित आहार विहार और स्वास्थ्य सिद्धाँतों का पालन करना आवश्यक है उसी तरह वायुमंडल और वातावरण को भी स्वस्थ और विकार रहित रखने का लिए प्रयत्न करना परमावश्यक है क्योंकि दूषित वातावरण से न तो हमारा आहार ही शुद्ध रह सकता है और न हमारा स्वास्थ्य ही।इसलिए दोस्तों आज मै आपसे वायुमंडल में घुलता जहर (पॉल्यूशन) होने के कारण और बचाव के उपाय के बारे में चर्चा करुँगी।
पॉल्यूशन होने के कारण रासायनिक पदार्थ पर्यावरण में कई तरह से प्रवेश कर रहे है। उर्वरकों, कीटनाशकों और खरपतवार नाशकों के रूप में वे सीधे ही पर्यावरण में पहुँच जाते है। कारखानों से निकलने वाली गैसे सल्फर डाइ ऑक्साइ, पोलिसायक्लिक हाइड्रोकार्बन्स, नाइट्रोजन ऑक्साइड जलने से बनती है। व्यर्थ पदार्थो के रूप में रसायनों का कचरा नदियों में बहता रहता है।

दुनिया भर के हज़ार रसायनों का उपयोग कीटनाशियों में हो रहा है। अकेले भारत में ही कितने हज़ार टन कीटनाशक दवाएं हर साल पर्यावरण में झोंकी जा रही है इसके अलावा सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों के अन्तर्गत मेले, ठेलों, सड़कों आदि में छिड़का जाता है औ…